गीले कागज की तरह है। ज़िन्दगी अपनी, कोई जलता नही और बहाता नही।

13-06-2015 0 Answers
0 3