मेरे पीठ पर जो जख्म है वो अपनों की निशानी हैं, वरना सीना तो आज भी दुश्मनो के इंतजार मे बैठा है...

11-01-2016 0 Answers
0 1