बिना साहस के मनुष्य का जीवन मिट्टी के डेले के सामान या निर्जीव मूर्ती के समान होता है।

20-03-2016 1 Answers
0 0


super

21/03/2016
0 0
Report Answer